Home Entertainment एक्टिंग, डांसिंग और मॉडलिंग की बारीकियों का हुनर सिखाती ‘बालाजी एकेडमी आॅफ...

एक्टिंग, डांसिंग और मॉडलिंग की बारीकियों का हुनर सिखाती ‘बालाजी एकेडमी आॅफ टैलेंट’, 12 साल में सैंकड़ों को तराशकर बनाया कलाकार

1225
1
SHARE
संवाददाता.
नई दिल्ली. 04 नवंबर. राजधानी दिल्ली के पूर्वी पटेल नगर में स्थित ‘बालाजी एकेडमी आॅफ टैलेंट’ कला की दुनिया में अपनी जगह बनाने वाले युवाओं के लिए किसी वरदान की तरह है.
डांसिंग क्लास में परफार्म करते एकेडमी के बच्चे
एक्टिंग, मॉडलिंग और डांसिग की बारीकियों समझाते हुए अनगढ़ प्रतिभा को तराशकर स्टार बनाने में माहिर हो चुकी यह एकेडमी ऐसे प्रतिभाशाली युवाओं के लिए वरदान है, जो कला के क्षेत्र में अपना मुकाम बनाना चाहते हैं. आज से 12 साल पहले वर्ष 2005 में दीपक शर्मा और मोहित मनोचा ने ‘बालाजी एकेडमी आॅफ टैलेंट’ की शुरूआत की थी.  यह भी पढ़ें : ‘द बोतल यार्ड’ क्लब की मॉडल नाइट में युवाओं ने की जमकर मस्ती ‘बालाजी एकेडमी आॅफ टैलेंट’ में क्या खास है, के जवाब में दीपक शर्मा कहते हैं, कि हम युवाओं को उनके लिए उचित सलाह देते हैं, हम उन्हें सिर्फ सब्ज बाग नहीं दिखाते, बल्कि उन्हें सपनों को पूरा करने का हुनर सिखाते हैं.
सोनी टीवी पर प्रसारित सीरियल में एकेडमी के छात्र
एकेडमी में समय-समय पर बॉलीवुड, टेलीवुड और थियेटर के प्रतिभाशाली कलाकार पहुंचकर नवोदित छात्रों को डांस, एक्टिंग, मॉडलिंग, म्यूजिक और एंकरिंग की तमाम बारीकियों से अवगत कराते हैं. आज ‘बालाजी एकेडमी आॅफ टैलेंट’ युवाओं के लिए सबसे बेहतरीन एकेडमी के तौर पर उभरा है, जो निरंतर नवोदित प्रतिभाओं को तराशकर उन्हें बेहतरीन मंच उपलब्ध करा रहा है. आज एकेडमी के अनेक छात्र-छात्राएं टीवी सीरियल और बॉलीवुड में अपनी प्रतिभा बिखेरते हुए संस्था का नाम रोशन कर रहे हैं. एकेडमी ख्ुाद भी समय-समय पर नए प्रोजेक्ट्स बनाते हुए छात्रों को आगे बढ़ने का मौका देती है. एकेडमी के छात्रों द्वारा बनाई गई शॉर्ट मूवी ‘आखिर क्यों’ देश के कोने-कोने में प्रशंसा बटोर चुकी है. इसके अलावा संस्थान के छात्र निर्देशक के तौर पर भी कई शॉर्ट मूवीज और एड फिल्म्स में अपनी काबिलियत का लोहा मनवा चुके हैं. एकेडमी के चेयरपर्सन दीपक शर्मा भी निर्देशक और प्रोड्यूसर की भूमिका में छात्रों के साथ कई शॉर्ट मूवी बना चुके हैं. दीपक कहते हैं, कि एकेडमी का मुख्य उद्देश्य नवोदित प्रतिभाओं को प्रोफेशनल बारीकियां सिखाई जा सकें ताकि वह आगे चलकर क्षेत्र में कामयाबी के शिखर पर पहुँच सकें.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here