Home Uncategorized दिल्ली के रियल एस्टेट सेक्टर को ले डूबेगा दिल्ली का एयर पॉल्यूशन…

दिल्ली के रियल एस्टेट सेक्टर को ले डूबेगा दिल्ली का एयर पॉल्यूशन…

272
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
प्रश्न- गिरीश जी, मैं भी एक रियल एस्टेट कंसलटेंट हूँ. सरोजनी नगर में मेरा आफिस है. मैं सिर्फ यह पूछना चाहता हूँ कि दिल्ली में लगातार पॉल्यूशन के चलते अब तो दम घुटने लगा है. अगर यही हाल रहा तो दिल्ली में रियल एस्टेट का भविष्य क्या रहेगा? – संदीप आहूजा
Girish Sharma, property conslutant
उत्तर- हम पिछले कुछ वर्षों से देख रहे हैं, कि स्थिति बद् से बद्तर होती जा रही है. दिल्ली की जनता खुद भी सांस घोटू दिल्ली को बढ़ावा देने में लगी है. इस समय पूरी दिल्ली का सिस्टम पंगु होता दिख रहा है. माननीय सुप्रीम कोर्ट यदि पॉल्यूशन के चलते पटाखे चलाने को बैन करती है, तो उसे धर्म के चश्मे से देखा जाता है. बिना सोचे-समझे 10 से 15 साल पुरानी कारों को बंद कर दिया जाता है. और इस तरह के कई कदम उठाने के बावजूद भी अभी तक कोई भी सिविक एजेंसी ऐसे किसी सटीक नतीजे पर अब तक नहीं पहुंच पाई है, कि आखिर दिल्ली में एयर पॉल्यूशन की वजह क्या है? यह भी पढ़ें : चार साल से बस उम्मीदों पर सवार जनता, नए साल में कितनी राहत, कोई नहीं जानता..? अधिकारियों को समझ नहीं आ रहा है, कि किसे, किस स्थिति और किस कारण को दोषी माना जाए. कभी पराली, कभी पटाखे और ना जाने कितनी प्रकार की स्थितियों को दोषी ठहराया जा रहा है. पर्यावरण और मानव जीवन का बड़ा ही गहरा संबंध रहा है. सभ्यता के विकास ने मानव को विलासी बना दिया है. विकास के नाम पर मानव ने प्राकृतिक संपदा को रौंद डाला है, जिसका नतीजा पॉल्यूशन के रूप में सभी के सामने है. दिल्ली कुछ ही वर्षों में रहने लायक नहीं रह जाएगी. अन्य शहरों से दिल्ली की ओर जनसंख्या का पलायन अगर यूँ ही चलता रहा तो बुनियादी चीजों का भी अभाव हो सकता है. अगर यही हालात रहे और इसी तरह पॉल्यूशन का लेवल बढ़ता चला गया तो मेरी नजर में वह दिन दूर नहीं कि जब दिल्ली में रियल एस्टेट के दाम आकाश से धरती पर आने में देर नहीं लगेगी.
और अधिक जानकारी के लिए आप गिरीश शर्मा के फेसबुक पेज Shanti Properties (Regd.) पर जाकर सभी लेख देख सकते हैं और उनके यूट्यूब चैनल Property Tips By Girish Sharma को लाइक व सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here