Home State News टाउन वैंडिंग कमेटी के चुनाव पर रोक लगवाने की मांग को लेकर...

टाउन वैंडिंग कमेटी के चुनाव पर रोक लगवाने की मांग को लेकर गृहमंत्री राजनाथ से मिले सांसद उदितराज

113
0
SHARE
संवाददाता.
नई दिल्ली. 28 जून. 2007 में दिल्ली नगर निगम में 1,31,807 वैंडर्स का पंजीकरण हुआ था। नई दिल्ली नगर निगम में 4350 और कैन्ट में लगभग 1500. तीनों नगर निगम द्वारा 20 जून 2018 से टाऊन वैंडिंग कमेटी के चुनाव के नामांकन की शुरूआत हो चुकी है, जबकि मतदाता सूची में 20 हजार से भी कम रेहड़ी-पटरी वाले हैं. इस कमेटी के लिए मतदान 15 जुलाई को होना है. चुनाव की आधी-अधूरी तैयारियों और हेराफेरी को लेकर सांसद डॉ. उदितराज ने संगठन के सदस्यों के साथ गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर चुनाव को टालने की मांग की है. इस दौरान गृहमंत्री से मिलने पहुंचे प्रतिनिधियों ने कहा कि प्रशासन ने 2007 में पंजीकृत वैंडर्स को मतदाता सूची में लाने का कोई प्रयास नहीं किया. प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने कहा कि नई दिल्ली नगर निगम में ऐसा प्रयास किया गया था, लेकिन उसने आखिर में निर्वाचन प्रक्रिया को स्थगित कर दिया, ऐसा दिल्ली नगर निगम क्यों नही कर सकती? संगठन के सदस्यों ने इसमें अनियमितता का आरोप लगाते हुए चुनाव प्रक्रिया स्थगित किए जाने की मांग की. यह भी पढ़ें : दिल्ली को सीलिंग से बचाने के लिए संशोधन के अलावा भी बहुत कुछ बाकी, हरदीपपुरी और उपराज्यपाल से दखल की मांग गौरतलब है, कि नेशनल पॉलिसी आॅन अर्बन स्ट्रीट वैंडर्स के अनुसार कुल 2.5 प्रतिशत तहबाजारी की जगह जनगणना 2001 की आबादी के अनुसार होनी चाहिए. दिल्ली की आबादी इस समय लगभग 2 करोड़ 25 लाख के लगभ है, तो उसके हिसाब से लगभग 6 लाख वैंडर्स होने चाहिएं और वर्तमान में जो चुनाव होने जा रहा उसमें यह संख्या लगभग 20 हजार है.
सांसद उदित राज के नेतृत्व में रेहड़ी-पटरी के संगठनों के एम. एस. लाकड़ा, आर. बी. सिंह राजपूत, सुषमा शर्मा, अशोक राज, गुलशन, रामकुमार सोनकर, मुकेश कुमार, पंकज कुमार झा, एच. एस. रावत, अजय खन्ना, अल्ताफ, आसमा, अंजुम खान, माया देवी, पंचम, वीरभद्र मौर्या, धर्मेन्द्र आदि मौजूद रहे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here