Home Interviews करोड़ों रुपए टैक्स देकर भी दिल्लीवासी चिकित्सा सेवाओं में प्राथमिकता से दूर-...

करोड़ों रुपए टैक्स देकर भी दिल्लीवासी चिकित्सा सेवाओं में प्राथमिकता से दूर- पंकज पुष्कर

60
0
SHARE
Pankaj Pushkar, MLA, AAP
देशभर में लोकसभा चुनाव को लेकर प्रचार तेज हो चुका है. तमाम राजनीतिक पार्टियां चुनावी प्रचार में अपनी ताकत झोंकने में जुटी हुई हैं. राजधानी दिल्ली में पांच साल पुरानी आम आदमी पार्टी भी दिल्ली सरकार के तीन साल के कामकाज को चुनावी मुद्दा बनाते हुए मैदान में डटी है. स्वास्थ्य के क्षेत्र में मोहल्ला क्लीनिक और शिक्षा व्यवस्था में सुधार सरीखे तमाम कदमों को मुद्दा बनाते हुए देशभर के मतदाताओं के बीच अपनी जगह तलाशने में जुटी है. पार्टी के बड़े नेताओं का मानना है, कि पार्टी दिल्ली मॉडल के जरिए देश भर में दमदार प्रदर्शन कर सकती है. हालांकि सरकार के तीन साल के कार्यकाल में अंदरूनी स्तर पर पार्टी में कई बड़े मतभेद पार्टी के लिए परेशानी का सबब रहे हैं. इसमें जहां कई बड़े नेताओं ने पार्टी की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए बागी तेवर अपनाए तो वहीं कुछ ने इसे अपने मूल सिद्धांतों से दूर होने वाली पार्टी तक भी बता दिया. हालांकि पार्टी अपने ऊपर लगे इन तमाम आरोपों को दरकिनार करके लोकसभा केचुनावी रण की तैयारी में जुटी है. दिल्ली सरकार की उपलब्धियों और चुनाव की तैयारियों को लेकर पत्रकार प्रवीण श्रीवास्तव ने आम आदमी पार्टी के तिमारपुर से विधायक पंकज पुष्कर से बात की-

प्रश्न- दिल्ली सरकार और अपने तीन साल के कामकाज से कितना संतुष्ट हैं? सरकार का तीन साल से ज्यादा का वक्त बीतने के बावजूद कई बड़े वायदे अभी बाकी हैं और सरकार की अधिकारियों से जंग भी जगजाहिर है.
उत्तर- दिल्ली सरकार ने तीन साल में बेहतर काम किया है. हालांकि उपराज्यपाल हमारे कामों में रुकावट पैदा करते रहे हैं. हालात इस कदर बद्तर हैं, कि मुख्यमंत्री केजरीवाल को तीन मंत्रियों के साथ राजनिवास पर धरना भी देना पड़ा. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट से भी साफ हो गया कि विधानसभा सर्वोच्च है, तब जाकर उपराज्यपाल ने फाइल्स को पास करना शुरू किया और काम करने में आ रही रुकावटें दूर होती चली गर्इं. दिल्ली सरकार ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में बेहतरीन काम करते हुए मोहल्ला क्लीनिक पर बड़ी तेजी से कामकाज किया है. मैं उम्मीद करता हूँ कि बाकी बचे वायदों पर भी सरकार की तेज गति अब दिखेगी.
प्रश्न- दिल्ली सरकार एक तरफ राजधानी में स्वास्थ्य सुविधाएं दुरुस्त करने की बात कर रही है. वहीं दूसरी ओर बाहरी राज्यों से आए लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं से दूर कर रही है?
उत्तर- दिल्ली सरकार दिल्लीवासियों के लिए बेहतर सुविधाएं जुटाना चाहती है. दिल्ली के नागरिक एक लाख करोड़ रुपए इनकम टैक्स के रूप में देते हैं. जिसमें से केंद्र को देने के बाद 40 हजार करोड़ रुपए जो दिल्ली को मिलते हैं, उसका पूरा लाभ दिल्लीवासियों को मिलना चाहिए. लेकिन बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों के चलते यहीं के नागरिक अपने दिए हुए टैक्स के पैसों के बावजूद बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं से दूर होते जा रहे थे. इसलिए दिल्ली सरकार ने अपने सरकारी अस्पतालों में दिल्लीवासियों को प्राथमिकता देने का फैसला किया.
प्रश्न- अब हाईकोर्ट ने इस प्राथमिकता पर रोक लगा दी है. विपक्ष भी इस पर लगातार सवाल खड़े कर ही रहा है. आरोप हैं, कि क्या सरकार भेदभाव करके मरीजों का इलाज करेगी?
उत्तर- दिल्ली सरकार ने अपने सरकारी अस्पतालों में लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं प्रदान की हैं. इस मुद्दे पर आरोप लगा रही भाजपा शासित केंद्र को भी अपने स्तर पर सरकारी अस्पतालों में बेहतर चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करनी चाहिएं. केंद्र सरकार को एम्स अस्पताल की क्षमता कम से कम चार गुना बढ़ानी चाहिए और केंद्र के अधीन आने वाले सरकारी अस्पतालों की क्षमता और गुणवत्ता में सुधार करना चाहिए. फिलहाल हाईकोर्ट ने इस विषय पर रोक लगा दी है, लेकिन हम सुप्रीम कोर्ट में मामले को लेकर जाएंगे और हमें पूरा विश्वास है, कि दिल्लीवासियों को उनका हक मिलेगा.
प्रश्न- आम आदमी पार्टी से एक समय आपने भी बागी तेवर अपना लिए थे, आखिर उस समय बगावत का कारण क्या था ? क्या वह नाराजगी अब भी बरकरार है?
उत्तर- डेढ़-दो साल पहले मैंने भी आम आदमी पार्टी में बागी तेवर अपनाए थे. लेकिन अब सब कुछ सामान्य है. मैं पुरानी बातों को भूल चुका हूं और आम आदमी पार्टी के कामकाज से पूरी तरह संतुष्ट हूँ. रही बात उस समय पार्टी से नाराजगी की, तो यह पुरानी बात हो चुकी है. जिस पर अब बातचीत करना मैं उचित नहीं समझता हूँ. इस समय मैं पूरी तरह पार्टी के साथ खड़ा हूँ, किसी विषय पर कोई नाराजगी नहीं है.
प्रश्न- 2019 लोकसभा चुनाव में आप आम आदमी पार्टी को किस दिशा में देखते हैं?
उत्तर- लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी बेहतर प्रदर्शन करेगी. मैं पार्टी में विधायक स्तर का नेता हूँ, इसलिए केवल दिल्ली के विषय में ही बता सकता हूँ कि यहां आम आदमी पार्टी विधानसभा चुनाव की तरह विजय दर्ज करेगी. रही बात देश भर की तो पार्टी के तमाम बड़े नेता चुनावी प्रचार में जुटे हुए हैं. जिनके अथक प्रयासों का परिणाम हमें सफलता के रूप में अवश्य मिलेगा.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here