Home Uncategorized आय के स्रोत में हुई बेईमानी, तो प्रॉपर्टी कहलायेगी बेनामी…

आय के स्रोत में हुई बेईमानी, तो प्रॉपर्टी कहलायेगी बेनामी…

138
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
प्रश्न- गिरीश जी, प्रॉपर्टी से संबंधित कई शब्दों, टर्म्स एवं महत्वपूर्ण दस्तावेजों के बारे में जानकारी मैंने आपके लेखों, यू-ट्यूब चैनल के एपिसोड्स देखकर प्राप्त की है. मैं यह कह सकता हूँ कि आपकी तथ्य को वर्णन करने की शैली बेहद सरल है, जिसे की एक आम आदमी पूरी तरह समझ पाता है. सर मुझे बेनामी प्रॉपर्टी के बारे में कृपया बताएं. इसका असल मतलब क्या है? मैं आपसे यह इसलिए पूछना चाह रहा हूँ कि मैंने अपनी बेटी के नाम पर दिल्ली में एक प्रॉपर्टी खरीदी हुई है. मेरी बेटी बैंगलुरु में रहती है तो क्या यह संपत्ति बेनामी मानी जाएगी? मैं अपने इस प्रश्न में अपना नाम इसलिए नहीं लिख रहा हूँ कि इसमें मुझे किसी सरकारी विभाग से कोई दिक्कत ना आ जाए. मैं आशा करता हूँ कि आप मेरी परेशानी समझ सकते हैं. कृपया मुझे इसका हल बताएं.
Girish Sharma, property conslutant
उत्तर- भाई साहब, आपका बहुत-बहुत धन्यवाद कि आपको मेरे द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी काम आ रही है. जैसा कि आपने अपने प्रश्न में पूछा है कि बेनामी प्रॉपर्टी क्या होती है? तो मैं इसमें बहुत ही सरल भाषा का प्रयोग कर आपको समझाना चाहूंगा कि जब संपत्ति खरीदने वाला अपने पैसे से किसी और के नाम पर प्रॉपर्टी खरीदता है, तो वह बेनामी प्रॉपर्टी कहलाती है. लेकिन शर्त यह है, कि खरीद में लगा पैसा आमदनी के ज्ञात स्रोतों से बाहर का होना चाहिए. भुगतान चाहे सीधे तौर पर किया जाए या फिर घुमा-फिराकर. अगर खरीददार ने इसे परिवार के किसी व्यक्ति, किसी करीबी रिश्तेदार, दोस्त या जानकार के नाम पर खरीदी हो, तब भी ये बेनामी प्रॉपर्टी ही कही जाएगी.  अगर दूसरे शब्दों में कहूँ कि खरीददार का प्रॉपर्टी पर कब्जा तो होता है, पर कानूनी मिल्कियत के हिसाब से प्रॉपर्टी उसकी नहीं होती. यह भी पढ़ें : कैसे लिखें सरल तरीके से वसीयत..? बेनामी प्रॉपर्टी रखना कायदे से तो गैरकानूनी है. इसमें जिस व्यक्ति के पास बेनामी संपत्ति पाई जाएगी, उसे दोषी करार देते हुए 7 साल तक की कैद की सजा हो सकती है. 1988 के कानून में किया गया संशोधन लागू हो गया है. इसके तहत केंद्र सरकार के पास ऐसी प्रॉपर्टी को जब्त करने का अधिकार है. और प्रॉपर्टी की बाजार कीमत के एक चौथाई के बराबर जुर्माना लगाया जा सकता है. लेकिन भाई साहब आपने अपनी बेटी के नाम से जो प्रॉपर्टी खरीदी है, यदि उसमें खर्च किए गए पैसों का स्रोत दिखा सकते हैं, तो आपको कुछ भी चिंता की जरूरत नहीं है. ऐसे में आपकी यह प्रॉपर्टी बेनामी नहीं मानी जाएगी.
विस्तृत जानकारी के लिए गिरीश शर्मा के फेसबुक पेज Shanti Properties (Regd.) एवं यू-ट्यूब चैनल Property Tips By Girish Sharmaपर जा सकते हैं. प्रापर्टी से संबंधित नवीनतम जानकारियों के लिए पेज और चैनल को लाइक एवं सब्सक्राइब करना न भूलें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here