Home State News पूर्व स्टैंडिग कमेटी चेयरमैन जगदीश ममगांई ने जन सुनवाई समिति के सामने...

पूर्व स्टैंडिग कमेटी चेयरमैन जगदीश ममगांई ने जन सुनवाई समिति के सामने मास्टर प्लान 2021 में संशोधन हेतु सुझाव दिए

122
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
संवाददाता.
नई दिल्ली. 10 फरवरी. एकीकृत दिल्ली नगर निगम की निर्माण समिति के पूर्व चेयरमैन जगदीश ममगांई ने डीडीए द्वारा मास्टर प्लान 2021 में प्रस्तावित संशोधनों हेतु जन सुनवाई समिति के सामने सीलिंग से राहत देने के साथ-साथ दिल्ली का नियोजित स्वरूप बनाए रखने संबंधी सुझाव दिए. विदित हो कि मास्टर प्लान 2021 में प्रस्तावित संशोधनों पर जनसुनवाई हेतु डीडीए द्वारा इंजीनियर सदस्य डॉ. महेश कुमार की अध्यक्षता में के. विनायक राव, डी. सरकार, विधायक विजेन्द्र गुप्ता तथा ओ.पी. शर्मा की 6 सदस्यीय जनसुनवाई समिति गठित की गई है,
jagdish mamgain
जो विकास सदन में राजनैतिक प्रतिनिधियों, अर्बन एक्सपर्ट, एनजीओ, आरडब्लयूए, व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों की आपत्तियों व सुझावों पर विचार-विमर्श कर रही है. यह भी पढ़ें : सरकारी तंत्र की गलतियों की सजा व्यापारी को क्यूँ और कब तक?  ममगांई ने अपने सुझावों में कहा कि लोकल शॉपिंग सेंटर व सामुदयिक केंद्र का एफएआर आवासीय प्लॉट के समकक्ष करने के डीडीए प्रस्ताव में पार्किंग की शर्त जोड़ने का कोई औचित्य नहीं है, क्योंकि दिल्ली नगर निगम कन्वर्जन शुल्क के साथ पार्किंग शुल्क ले रहा है लिहाजा पार्किंग का प्रावधान करना उसकी जिम्मेदारी है. वहीं दुकान एवं आवासीय प्लॉटों में एफएआर बढ़ने के बावजूद केवल ग्राउंड प्लोर को ही व्यावसायिक उपयोग की अनुमति है, प्रथम तल व बेसमेंट में व्यावसायिक प्रतिष्ठान नहीं चल सकते तो अतिरिक्त एफएआर बढ़ाने से कोई फायदा नहीं होगा. ममगांई ने कहा कि कन्वर्जन चार्ज केवल 10 वर्ष तक ही लिया जाए, इस संबध में मास्टर प्लान 2021 में आवश्यक संशोधन किया जाना चाहिए. साथ ही यदि कोई 10 वर्ष का कन्वर्जन चार्ज एकमुश्त जमा कराता है तो उसे 20 प्रतिशत की छूट दी जाए.
इसके अलावा उन्होंने वर्ष 1962 से पूर्व आवासीय क्षेत्र में विकसित दुकान एवं आवास को जारी रखने की अनुमति वाले क्षेत्र में कन्वर्जन चार्ज वसूल नहीं किये जाने का भी सुझाव दिया. ममगांई ने कहा कि लोकल शॉपिंग सेंटर, मिक्सड लैंड तथा डीडीए द्वारा विकसित मार्किट समेत सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठानों का कन्वर्जन चार्ज समान होना चाहिए. साथ ही गोदामों को नियमित करने के निमित्त 12 मीटर रोड की शर्त को समाप्त किया जा सकता है. इसके अलावा उन्होंने दिल्ली की सभी मार्किटों के कन्वर्जन शुल्क कम किये जाने का भी सुझाव दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here