Home Interviews आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू करने का हौंसला दिखाए सरकार

आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू करने का हौंसला दिखाए सरकार

256
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
आरक्षण की आग के बाद जले हरियाणा में आपसी भाईचारे व सद्भाव की जद्दोजहद में जुटे जाट महासभा के अध्यक्ष प्रदीप हुड्डा की इंडियन आॅब्जर्वर्स के साथ खास बातचीत….
pradeep hudda, social activist
तीसरी बार बना प्रदेश अध्यक्ष
पूरा संगठन समाज में भाईचारा बनाने के लिए काम कर रहा है. मैं तीसरी बार हरियाणा जाट महासभा का प्रदेश अध्यक्ष बना हूँ. उससे पहले मैंने सभा के युवा प्रदेशाध्यक्ष के तौर पर काम किया. जब से मैंने संगठन की कमान संभाली है, तबसे संगठन से मजबूत लोगों को जोड़ने का काम किया.
संगठन से खत्म किया भाई-भतीजावाद
मैंने संगठन में चलने वाले भाई-भतीजावाद को खत्म किया और ऐसे लोगों को संगठन के साथ जोड़ने का काम किया जिनकी इमेज साफ हो और जिनके पीछे एक मजबूत जनाधार हो. यही कारण है, कि आज जाट महासभा का संगठन बेहद मजबूत हुआ है. आज सभी की नजर में है, कि प्रदेश में हरियाणा जाट महासभा जैसा संगठन भी काम कर रहा है.
छोटी-छोटी समस्याएं निपटाने पर जोर
साधारणतया हम संगठन के तहत लोगों के छोटे-छोटे काम निपटाने पर काम करे हैं. नौकरशाही की अडंगेबाजी के चलते आम आदमी के छोटे-छोटे काम करवाने के लिए हमने मुहिम चलाई है. हम करप्शन के खिलाफ काम कर रहे हैं . साथ ही स्थानीय समस्याओं को राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाने का काम भी संगठन बखूबी कर रहा है.
राजनीतिक दल से कोई लेना-देना नहीं
समाजसेवा के क्षेत्र से जुड़ा इंसान राजनीति से भी जुड़ा होगा, किसी भी समाजसेवी के बारे में लोगों की ऐसी धारणा बन जाती है. हालांकि यह गलत है. हम हर उस इंसान और संगठन के साथ हैं, जो समाज हित का काम कर रहा है. मेरा कोई राजनीतिक मकसद नहीं है.
मौजूदा सरकार ने बिगाड़ा भाईचारा
प्रदेश में मौजूदा भाजपा सरकार की वोट बैंक की राजनीति ने जाट समुदाय का बड़ा नुकसान किया है. हरियाणा सरकार की राजनीति के चलते जाट समुदाय तीन धड़ों में बंट गया है. लेकिन इससे किसी एक का नुकसान नहीं है, बल्कि पूरे समाज और प्रदेश का नुकसान हुआ है.
कौन सा दल बेहतर
मेरा कोई राजनीतिक मत नहीं है. लेकिन मौजूदा भाजपा सरकार के मुकाबले समाज के लिए कांग्रेस की राजनीति बेहतर थी. भारतीय जनता पार्टी ने यहां पर बांटने की जो राजनीति की है, उसका नुकसान पूरे प्रदेश को उठाना पड़ा है.
सभी वर्गों को साथ लाना कितना मुश्किल
समाज के सभी वर्गों को साथ लाना एक ऐसे वक्त में, जब सब एक-दूसरे को शक की नजर से देखते हों थोड़ा मुश्किल होता है, लेकिन यह नामुमकिन भी नहीं है. आपसी भाईचारा बनाए रखना हम सबकी जिम्मेदारी है और हम इसके लिए काम कर रहे हैं.
हवाई समाजसेवी भी बांट रहे लोगों को
आज समाज में दो तरह के लोग काम कर रहे हैं. एक वह जो जमीन पर काम कर रहे हैं और समाज में जागरूकता फैलाने और भाईचारा लाने की कोशिश कर रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ भाईचारे के नाम पर राजनीति करने वालों की भी कमी नहीं है. आज ऐसे बहुत से हवाई समाजसेवी पैदा हो गए हैं, जिनकी जड़ें किसी न किसी राजनैतिक दल के साथ जाकर जुड़ती हैं और जिनके अपने स्वार्थ हैं.
आरक्षण खत्म करने का हौंसला दिखाए सरकार
यह कहना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन मैंने उस वक्त में भी यह कहने का हौंसला दिखाया था, जब प्रदेश में आरक्षण को लेकर आग लगी हुई थी. सरकार हौंसला दिखाए और आरक्षण को आर्थिक आधार पर करने का फैसला ले, ताकि हर वर्ग के गरीब और वंचित को इसका लाभ मिल सके.
प्रदेश सरकार से कोई उम्मीद नहीं
प्रदेश सरकार से किसी को कोई उम्मीद नहीं है. जिस तरह की जातिवादी राजनीति इस सरकार ने की है, उसके बाद तमाम उम्मीदें खत्म हो गई हैं. हम एक राजनैतिक जागरुकता कैंपेन शुरू कर रहे हैं, जिसमें मतदाता को यह समझाने का प्रयास है, कि सभी दलों में अच्छे लोग हैं. तो लोग पार्टी को छोड़कर अच्छे उम्मीदवारों के चयन पर ध्यान केंद्रित करें. अगर हमने अच्छे उम्मीदवारों का चयन किया तो निश्चित तौर पर राजनीतिक व्यवस्था में भी सुधार हो पाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here