Home State News व्यापारियों की परंपरागत दीवाली पूजा में शामिल हुआ जीएसटी पोर्टल

व्यापारियों की परंपरागत दीवाली पूजा में शामिल हुआ जीएसटी पोर्टल

54
0
SHARE
संवाददाता.
नई दिल्ली. 21 अक्तूबर. इस बार दीवाली पूजा में बाजारों में स्थित दुकानों में व्यापारियों ने परंपरागत दीवाली पूजा के साथ-साथ जीएसटी पोर्टल, कंप्यूटर, मोबाइल आदि की दीवाली पूजा की. जीएसटी के लागू होने के बाद अब परम्परागत बही खाते की जगह जीएसटी पोर्टल ही व्यापारियों का बही खाता बन गया है. व्यापारियों के लिए फीकी दीवाली, बाजार से उपभोक्ता गायब,  गौरतलब है, कि व्यापारियों के लिए दीवाली पूजा का विशेष महत्व है और व्यापार के लिए इस पूजा को बेहद लाभकारी माना गया है. सदियों से भारत में व्यापारी दीवाली के अवसर पर अपने व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर परंपरागत रूप से दीवाली पूजा करते आ रहे हैं. अब क्योंकि जीएसटी पोर्टल ने वास्तविक बही-खाते का रूप ले लिया है, लिहाजा देश भर में आज व्यापारियों ने अपनी दुकानों में जीएसटी पोर्टल दीवाली पूजा की. व्यापारियों ने पूजा में प्रार्थना की, कि पोर्टल सुचारू रूप से काम करे और जीएसटी से उपजी व्यापारियों की परेशानियां समाप्त हों.
नई दिल्ली में कैट के राष्ट्रीय मुख्यालय में हुई दीवाली पूजा में प्रकांड पंडितों ने वैदिक मन्त्रों के बीच जीएसटी पोर्टल को खोला, रोली तिलक लगाया और हार फूल, पांच मेवा एवं मिष्ठान अर्पित किया गया और आरती की गयी. दीवाली पूजन में बही-खातों के स्थान पर कंप्यूटर और व्यापार करने के आधुनिक साधन लैपटॉप, मोबाइल और टेलीफोन की भी पूजा की गयी.
इस अवसर पर कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी.भरतिया ने कहा कि आज हुई दीवाली पूजा देश भर में इस बात का मजबूत सन्देश देगी, कि व्यापारी भी अब आधुनिक तकनीक को अपनाने के लिए पूरी तरह तैयार है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here