Home State News स्वास्थ्य सुविधाएं सरकारों की प्राथमिकता में शामिल नहीं- स. जी.एस. बावा

स्वास्थ्य सुविधाएं सरकारों की प्राथमिकता में शामिल नहीं- स. जी.एस. बावा

121
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
देश में बेहतर चिकित्सा सुविधाएं देने के लिए सरकारें समय-समय पर तमाम तरह की योजनाओं की घोषणाएं करती हैं, लेकिन इन तमाम घोषणाओं के बावजूद जमीनी हालात जस के तस हैं। अब मौजूदा केंद्र सरकार जहां आयुष्मान भारत योजना लेकर आ रही है, तो वहीं दिल्ली सरकार भी सरकारी हॉस्पीटल्स में सुविधाएं बेहतर होने तथा मोहल्ला क्लीनिक जैसे यूनिक कांसेप्ट पर काम कर रही हैं, लेकिन क्या ये सब घोषणाएं चिकित्सा क्षेत्र की दुश्वारियों को सुधारने में पर्याप्त हैं। इन्हीं तमाम विषयों पर पर हमने एमजीएस सुपर स्पेशलिटी हॉस्पीटल के चेयरमैन स.जी.एस. बावा से बातचीत की-

Sr. G.S. Bawa, Chairmen MGS Hospital
बद्हाल स्वास्थ्य सेवाओं के बीच निजी हॉस्पीटल की भूमिका
प्राइवेट हॉस्पिटल्स कई तरह के हैं, जिनमें कॉरपोरेट, चैरिटेबल हॉस्पिटल और नर्सिंग होम सहित कई कैटेगिरी हैं। निजी अस्पताल सरकारी अस्पतालों के मुकाबले बेहतर सुविधाएं देते हैं, जिसके चलते इन अस्पतालों की फीस महंगी होती है। लेकिन प्राइवेट हॉस्पीटल्स भी गरीबों की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं और आपातकालीन परिस्थिति में उनकी हरसंभव मदद करते हैं।
आयुष्मान भारत योजना के लिए कितनी तैयारी
हम आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीबों तक बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। लेकिन इसमें सरकार ने फिक्स चार्ज को 20% कम रखा है, जिससे कुछ परेशानी जरूर है। बेहतर हो कि सरकार फिक्स रेट को सुधारे। आयुष्मान भारत योजना का मकसद गरीब मरीजों तक बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाना है, लेकिन फिक्स चार्ज कम होने से काफी कठिनाई आएंगी।
दिल्ली सरकार की पहल के बाद सरकारी हॉस्पीटल्स से कितनी चुनौती
यदि सरकारी अस्पतालों में बेहतर चिकित्सा की सुविधाएं मिलने लग जाएं तो यह हम सभी के लिए काफी संतोषजनक स्थिति होगी। लेकिन अभी सरकारी अस्पतालों में बुनियादी सुविधाएं जुटाने की कोशिशें ही चल रही हैं, जबकि प्राईवेट हॉस्पीटल्स काफी एडवासं स्थिति में है, ऐसे में मैं इसे कोई चुनौती की तरह नहीं देखता हूँ। हालांकि यह बहुत अच्छा है, कि सरकारी हॉस्पीटल्स के सिस्टम को दुरूस्त किया जाये।
एमजीएस हॉस्पीटल में क्या है खास
एमजीएस हॉस्पीटल में हमारी हमेशा प्राथमिकता रोगी को बेहतर इलाज देने की रहती है। मरीजों की हरसंभव मदद के लिए हम तमाम प्रयास करते हैं, जिसमें गरीब रोगियों के लिए बेहतर इलाज कराना हमारी प्राथमिकता है, जो हमें बाकी हॉस्पीटल्स से अलग करता है।
बद्हाल चिकित्सा सुविधाओं का जिम्मेदार कौन
सरकारों के लिए स्वास्थ्य सुविधाएं प्राथमिकता नहीं हैं। यदि शुरूआती स्तर पर ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं लोगों को हासिल हों तो लाइलाज बीमारियों में इतनी बढ़ोत्तरी न हो। बीमारियों के बढ़ने का बड़ा कारण मिलावटी भोजन और पानी भी हैं, जो व्यक्ति को जल्दी बीमार कर देता है। इसलिए खाने और पीने की सामग्री में मिलावट रोकना भी सरकारों की प्राथमिकता होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here