Home Astro कालसर्प दोष के भय को कैसे दूर करें? ये उपाय आयेंगे काम…पार्ट-2

कालसर्प दोष के भय को कैसे दूर करें? ये उपाय आयेंगे काम…पार्ट-2

106
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
गतांक का शेष….
* इसमें जातक के विद्याध्ययन में कुछ व्यवधान होता है, लेकिन कालांतर में यह समस्या समाप्त भी हो जाती है. इसमें जातक के संतान विलंब से होती है, साथ ही इनको पुत्र संतान की चिंता प्राय: बनी रहती है. मान- सम्मान की प्राप्ति भी होती है, ऐसा योग पद्म कालसर्प योग के नाम से जाना जाता है. इसमें व्यक्ति अपनी वृद्धावस्था में चिंतित रहता है.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* शुभ मुहूर्त में मुख्य द्वार पर चांदी का स्वास्तिक एवं दोनों ओर धातु से निर्मित नाग चिपका दें.
astrologer nidisha
* एक जातक जीवन में शत्रुओं पर विजय प्राप्त करता है, साथ ही विदेशों में व्यापारिक लाभ प्राप्त करता है. परंतु अत्यधिक बाहर के आवागमन से घर में अशांति का माहौल बन जाता है. इस योग में जातक को एक ही चीज धन या सुख की प्राप्ति होती है. जातक का व्यक्तित्व संदेहास्पद रहता है. इस योग में जातक समय-समय पर स्वप्न देखता रहता है.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* श्रावण मास में 30 दिनों का रुद्राभिषेक करें.
* यदि जातक को पैतृक संपत्ति का सुख प्राप्त नहीं हो रहा हो, साथ ही जुए-सट्टे, लॉटरी में अपना धन बार-बार गंवा रहा है, तो ऐसा जातक तक्षक कालसर्प योग से ग्रसित होता है. इस योग से ग्रसित जातक को प्रेम-प्रसंग में सफलता प्राप्त नहीं होती तथा अपने सहयोगी सदस्यों से सहानुभूति नहीं मिल पाती. यदि इस योग में जातक अपनी भलाई से ज्यादा दूसरों की भलाई के बारे में सोचे तो इस योग के नकारात्मक प्रभाव मिलना बंद हो जाएंगे.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* साल में एक बार देवदार, सरसों तथा लोबान, इन तीनों को उबालकर स्नान किया करें.
* व्यक्ति के भाग्योदय में कुछ रुकावटें आ सकती हैं. जो पदोन्नति व्यक्ति को मिलनी चाहिए वे उसे मनोनुकूल नहीं प्राप्त होतीं और मित्रों तथा रिश्तेदारों के बीच मान-सम्मान नहीं मिलता तो यह योग आपको नकारात्मक फल दे रहा है.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* किसी शुभ मुहूर्त में शनिवार के दिन बहते पानी में तीन बार कोयला प्रवाहित करें.
* यदि कभी जातक को पिता का सुख ना मिले और उसके ननिहाल व बहन-भाइयों से भी छला जाए और कारोबार में कठिनाइयां देखनी पड़ें. साथ ही अपने धर्म से खिलवाड़ करना शुरू कर दे तो ये योग शंखचूड़ नाम से बनता है.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* किसी भी महीने के शनिवार का चयन करके 86 शनिवार तक व्रत रखें. साथ ही जटा वाला नारियल बहते पानी में प्रभावित करें तो ऊपर मिल रहे कष्टों से मुक्ति मिल जाएगी.
* यदि नौकरी नौकरी पेशा जातक को हमेशा सस्पेंड, डिस्चार्ज या डिमोशन के खतरों से रूबरू होना पड़ता है. व्यवसाय में समस्या का मुकाबला करना पड़े परंतु व्यवसाय या धन की कोई कमी नहीं होती हो. सामाजिक प्रतिष्ठा जरूर मिलती है, साथ ही राजनीतिक क्षेत्र में काफी सफलता प्राप्त करता है. इस योग में उत्पन्न जातक यदि माँ की सेवा करें तो उत्तम घर व सुख की प्राप्ति होती है.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* भगवान शिव के मंदिर में चांदी के नाग की पूजा करें तथा अपने पितरों का स्मरण करें. और उस नाग को बहते जल में श्रद्धापूर्वक विसर्जित कर दें.
* यदि जातक की स्मरण शक्ति का ह्रास हो, ज्ञानार्जन करने में आंशिक व्यवधान उपस्थित हो. उच्च शिक्षा प्राप्त करने बाधाएं. जातक को नाना-नानी, दादा-दादी से लाभ की संभावनाएं होते हुए भी नुकसान देखना पड़े. भाई, चाचा-चाची के झगड़े-फसाद से परेशान होना पड़े तो ये विषधर योग प्रबल नकारात्मक है. यदि व्यक्ति अपने घर से दूर होकर सफलता प्राप्त कर रहा है, तो भी ये विषधर योग फल दे रहा है.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* झगड़े, वाद-विवाद से बचने के लिए सवा महीने तक जौं के दाने पक्षियों को डालें.
* यदि आपकी मनोकामनाएं हमेशा विलंब में पूरी हों, खर्चा आमदनी से अधिक हो, तथा हमेशा लोगों का देनदार ही बना रहे. कर्जों से मुक्त ना हो तो इस शेषनाग योग की बाधाओं से निजात पाने के लिए अनुकूल उपाय करें.
अनुकूल करने हेतु उपाय
* किसी भी शुभ मुहूर्त में मसूर की दाल तीन बार गरीबों को दान करें.
स्वभूति ज्योतिष घराना
(एस्ट्रोलॉजर निदिशा)
9350043407,8882226777

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here