Home State News इंडिया इंटरनेशनल सेन्टर पर अखंड भारत दिवस मनाया

इंडिया इंटरनेशनल सेन्टर पर अखंड भारत दिवस मनाया

120
0
SHARE

हिन्दू उस समय हिन्दुत्व त्यागकर एक होने के लिए तैयार हो गये, परन्तु मुस्लिम यह नहीं कर पाये, जिसके कारण देश का विभाजन हुआ- विनय सहस्त्रबुद्धे


कांग्रेस और अंग्रेजों के दोहरे चरित्र के कारण भारत और पाकिस्तान अलग हुए- जस्टिस मूलचंद गर्ग


नई दिल्ली. 14 अगस्त. जम्मू कश्मीर पीपल्स फोरम के बैनर पर आज नई दिल्ली स्थित इंडिया इंटरनेशनल सेन्टर में अखण्ड भारत दिवस मनाया गया. इस अवसर पर सांसद एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुख्यवक्ता विनय सहस्त्रबुद्ध, महेन्द्र मेहता एवं जस्टिस मूलचंद गर्ग उपस्थित थे. हरबंस डंकल के मंच का संचालन में आयोजित इस कार्यक्रम में दिल्ली भाजपा कार्यालय मंत्री गिरीश सचदेवा के साथ पीओके के अनेक विस्थापित गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे.
महेन्द्र मेहता ने कहा कि आज हम 14 अगस्त को अखंड भारत दिवस मना रहे हैं, यह दिवस वर्ष 2010 से लगातार मनाया जा रहा है. आम लोगों के बीच जम्मू-कश्मीर के बारे में अनेक भ्रांतियां थीं, उनको दूर करने में हम सक्षम हो रहे हैं और लोगों को जागृत भी कर रहे हैं.
कार्यक्रम में जस्टिस मूलचंद गर्ग ने कहा कि हम सभी तो एक रहना चाहते थे, लेकिन उस समय की कांग्रेस सरकार और अंग्रेजों के दोहरे चरित्र के कारण पाकिस्तान और भारत दो अलग-अलग देश बना दिए. उस समय जम्मू-कश्मीर के राजा हरि सिंह ने सभी रियासतों के साथ भारत में अपने राज्य को मिला लिया था, लेकिन मुस्लिम बाहुल्य कुछ क्षेत्रों पर पाकिस्तान ने कब्जा कर लिया था, जो आज तक उन्हीं के पास है.
विनय सहस्त्रबुद्ध ने उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि हिन्दू उस समय हिन्दुत्व त्यागकर एक होने के लिए तैयार हो गये, परन्तु मुस्लिम यह नहीं कर पाये जिसके कारण देश का विभाजन हुआ. अभी भी कश्मीर में वोट बैंक की राजनीति की जाती है जिसके कारण वहां के मूल निवासियों को सरकारी लाभ नहीं मिल पाता. उन्होंने कहा कि विभाजन के दौरान जो पीओके में अपना सब-कुछ छोड़कर भारत के अन्य हिस्सों में रहने आये थे, आज अगर उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है तो ऐसे परिवारों को चिन्हित करके सरकारी मदद मिलनी चाहिये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here