Home Astro हाथ का रंग देखकर जानें अपना स्वभाव, आपके नेचर से लेकर हेल्थ...

हाथ का रंग देखकर जानें अपना स्वभाव, आपके नेचर से लेकर हेल्थ के बारे में बताता है हाथ का रंग

206
0
SHARE
आज मैं आपको आपके हाथों के बारे में ऐसी जानकारी दूंगा, जिससे कि आप खुद-ब-खुद अपने हाथ को देख कर अपने बारे में कुछ जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. हाथ किस रंग का हो, तो कैसा परिणाम देगा? आप भी अपना हाथ देखकर उसके रंग से अपने स्वभाव और हेल्थ के बारे में अनुमान लगा सकते हैं.
आचार्य ध्रुव, स्वभूति ज्योतिष घराना
गुलाबी रंग बैलेंस नेचर का प्रतीक
* जिनका हाथ गुलाबी होता है, वे लोग जल्दी से बीमार नहीं पड़ते हैं. क्योंकि गुलाबी रंग इस बात का द्योतक है, कि सारे शरीर में रक्त संचार सुचारू रूप से हो रहा है. यह अच्छे स्वास्थ्य का द्योतक है. ऐसे जातक उत्साही और आशावादी होते हैं. जीवन में रस लेते हैं और उसे अधिक सुंदर बनाने की कोशिश भी करते हैं. बुद्धिमत्ता का स्तर भी ठीक होता है.
उन्नति और खुशहाली का प्रतीक लाल रंग
* गुलाबी रंग के बाद लाल रंग की बारी आती है. लाल रंग प्रत्येक काम में उन्नति का द्योतक है. ऐसे जातक प्रेम, लड़ाई, कला, धर्म सभी में पूरी शक्ति से काम करते हैं. ऐसे लोग ‘साफ कहना और सुखी रहना’ पर विश्वास करते हैं. पर इनको गुस्सा अधिक आता है बात-बात पर हाइपर भी हो जाते हैं.
बीमारी का प्रतीक है पीला रंग
* लाल रंग के बाल पीले रंग की बारी आती है. पीले रंग का कारण पित्त की अधिकता होता है. ऐसे जातक ना तो प्रसन्न रहते हैं और ना प्रभावशाली होते हैं. ऐसे लोग शक्की और मूडी होते हैं. ये लीवर प्रॉब्लम, पीलिया, पेट की बीमारियों से ग्रसित होते हैं और इन्हें इंफेक्शन जल्दी होता है.
दुर्बलता का प्रतीक बैंगनी रंग
* पीले रंग के बाद बात करते हैं बैंगनी रंग की. बैंगनी रंग से स्पष्ट होता है, कि जातक के शरीर में रक्त संचार सुचारु रुप से नहीं हो रहा है. इससे हृदय की दुर्बलता प्रकट होती है. ऐसे हाथ वाले जातक बेचैन होते हैं और बीमार भी जल्दी पड़ते हैं.
उत्साह की कमी का प्रतीक सफेद रंग
* सफेद रंग के हाथ वाले जातक आमतौर पर ठंडे होते हैं. उनमें उत्साह और सहानुभूति की कमी होती है. हेल्थ से रिलेटेड प्रॉब्लम रहते हैं.
निराशा का प्रतीक है काला रंग
* काला हाथ दिखे तो समझें कि राहु का प्रभाव है. ऐसे लोग जिस काम में हाथ डालते हैं, तो सिर्फ निराशा ही हाथ लगती है. कहीं ना कहीं नजर का प्रभाव होता है और ना दिमाग स्थिर रहता है.
यह सब लक्षण शुरूआती रूप से अगर दिखाई दें, तभी सही-गलत का अनुमान लगाएं. अन्यथा आप हमारे स्वभूति ज्योतिष घराना के मशहूर हस्तलेखा विशेषज्ञ आचार्य ध्रुव से भी कंसल्ट कर सकते हैं. वे सही जानकारी के साथ स्वास्थ्य संबंधी समस्या या अन्य परेशानियों का निदान बतायेंगे.
आचार्य ध्रुव, स्वभूति ज्योतिष घराना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here