Home Astro हस्तलेखन के माध्यम से जानें अपना व्यक्तित्व

हस्तलेखन के माध्यम से जानें अपना व्यक्तित्व

240
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
हर इंसान के बोलने और चलने का तरीका अलग-अलग होता है. इसी विविधता के कारण इंसान के व्यवहार और व्यक्तित्व का पता लगाया जाता है. लेकिन क्या हमारे हस्तलेखन (लिखावट) के जरिये हमारे स्वभाव का अंदाजा लगाया जा सकता है? इसका जवाब है जी हाँ. लेखन विशेषज्ञों  के अनुसार हमारा व्यक्तित्व काफी हद तक हमारी लिखने की शैली को तय करता है. इसके अध्ययन को ग्राफोलॉजी कहा जाता है. इसके अनुसार हमारी लिखावट, हमारी बॉडी लैंग्वेज  की तरह है. जिस प्रकार चेहरे के भाव  हमारे अन्दर की बातों को दिखाते हैं, उसी प्रकार हमारी लिखावट भी हमारे व्यक्तित्व को दर्शाती है. चूंकि लिखने में अंगुलियों, (जिनका सीधा संबंध दिमाग से होता है) का प्रयोग होता है. आपकी सोच का प्रभाव सीधा आपके लेखन पर दिखाई देता है.
सभी लोगों की लिखने की शैली अलग-अलग होती है. आपके अक्षरों का आकार बता सकता है, कि आप शर्मीले हैं या खुले व्यवहार के. आपके द्वारा लिखे गये शब्दों के बीच की जगह से भी आपके स्वभाव और आदतों के बारे में पता चल सकता है. आइए जानें कुछ बातें, जिनके आधार पर आप किसी भी व्यक्ति‍ के हस्तलेख का अध्ययन करके उसके व्यक्तित्व को जान सकते हैं.
Ardhana Sharma, File Photo
* शब्दों का दाहिनी ओर झुकाव बहिर्मुखी व भावनाओं को प्रदर्शित करने वाले व्यक्ति का प्रतीक होता है, वहीं बायीं ओर झुकाव अंतर्मुखी व प्रतिरक्षात्मक व्यक्तित्व को दर्शाता है.
* बड़े आकार के शब्द महात्वाकांक्षी और आकर्षक व्यक्तित्व को दर्शाते हैं, और किसी भी स्थिति में आसानी से अपने आप को समायोजित कर लेते हैं.
* जबकि छोटे आकार के शब्द सादे-सुशील व्यक्तित्व को दर्शाते हैं। यह लोग शर्मीले और अंतर्मुखी व्यक्तित्व के होते हैं.  ऐसे लोग लोग हर काम को फोकस के साथ करते हैं. साथ ही ऐसे लोग बुद्धि से संबंधित कामों में बहुत तेज होते है.
* कुछ लोग अपनी राइटिंग बदलते रहते हैं. यह प्रवृत्ति अनियमित व्यक्तित्व का प्रतीक है. एक ही लिखाई वाले लेखक व्यवस्थित होने के साथ-साथ अनुशासनप्रिय भी होते हैं.
* ऊपर की ओर जाती हैंडराइटिंग सकारात्मक सोच व अच्छे मूड का प्रतीक होती है, वही नीचे गिरती हैंडराइटिंग नकारात्मक सोच को दर्शाती है. यह भी पढ़ें : पावन तीर्थ श्री सम्मेदशिखर जी की मौलिकता अक्षुण्ण रखने के लिए केंद्रीय मंत्री को ज्ञापन सौंपा
* यदि आप पेन या पेंसिल का इस्तेमाल करते समय उस पर भारी दबाव लगते  हैं या उसे काफी टाइट पकड़ते है  तो इसका मतलब है, कि आप उस काम में काफी प्रतिबद्ध हैं. इस प्रकार के व्यक्ति कमिटमेंट में विश्वास रखते हैं ,साथ ही ये भावनात्मक  भी होते हैं.  इस प्रकार के लोग जिस चीज को चाहते हैं उसके लिए  अंत तक लड़ते हैं. और अपने काम को हर दिक्कत के बावजूद पूरा करना चाहते  हैं.
* वहीं हल्के हाथ से काम करने वाली व्यक्ति संवेदनशील होते हैं. यह व्यक्ति ऐसे क्रियाकलापों को करना पसंद करते हैं, जिनमे कम शारीरिक काम की आवश्यकता हो. हालांकि ऐसे लोग लचीले होते हैं.
* जो लोग शब्दों के बीच ज्यादा जगह छोड़ते हैं, वे हर काम को आजादी के साथ करना पसंद करते हैं. इनका अपना ही एक जोन होता है, जहां ये अच्छा महसूस करते हैं. ऐसे लोगों को ज्यादा भीड़-भाड़ में रहना पसंद नहीं होता.
* वहीं दूसरी ओर जो लोग लिखते समय शब्दों में कम फासला रखते हैं, वे अकेले रहना बिल्कुल भी पसंद नहीं करते. ऐसे लोगों को दोस्तों या परिवार वालों के बीच रहना पसंद होता है. इसलिए इनके दोस्तों की संख्या ज्यादा होती है. कई लोगों में टाइम मैनेजमेंट की कमी भी देखी जा सकती है.
* आपके हस्ताक्षर से भी पता लगाया जा सकता है, कि आप अपने आपको दूसरों के सामने कैसे पेश करते हैं? यदि आपके हस्ताक्षर अस्पष्ट हैं, तो इसका मतलब है कि आप प्राइवेसी रखना  पसंद करते हैं. आप खुद को दूसरों के सामने बहुत जल्द प्रकट करना पसंद नहीं करते हैं. ये तेज बुद्धि और व्यस्त जीवनशैली का भी प्रतीक है.
* यदि आपके  हस्ताक्षर स्पष्ट रूप से पढ़े जा सकते  हैं, तो इसका मतलब है कि आप खुद पर बहुत यकीन करते हैं, और आपके पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है. 
* कई लोग हस्ताक्षर के नीचे लाइन खींचते हैं, इससे पता चलता है, कि उस व्यक्ति के अन्दर आत्मसम्मान की भावना है.
(लेखक, डॉ. पारस मंगला और डॉ. आराधना शर्मा, हस्तलेखन विशेषज्ञ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here