Home National News सफदरजंग हॉस्पीटल में नेशनल बायोमैटिरियल केन्‍द्र की शुरूआत, केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल...

सफदरजंग हॉस्पीटल में नेशनल बायोमैटिरियल केन्‍द्र की शुरूआत, केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने किया उद्घाटन

192
0
SHARE
The Minister of State for Health & Family Welfare, Smt. Anupriya Patel inaugurating the National Biomaterial Centre (National Tissue Bank) at the National Organ and Tissue Transplant Organization (NOTTO), in New Delhi on November 22, 2017.
संवाददाता.
नई दिल्ली. 22 नवंबर. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने आज नेशनल आॅर्गन एंड टिश्यू आॅर्गनाइजेशन में नेशनल बायोमैटिरियल केन्द्र का उद्घाटन किया. इस केन्द्र का मुख्य उद्देश्य मांग और आपूर्ति के बीच की खाई को पाटना और विभिन्‍न टिश्यूओं की उपलब्‍धता के साथ गुणवत्‍ता सुनिश्चित करना है.
इस अवसर पर आयोजित समारोह में श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने कहा कि यह समझना जरूरी है, कि भारत में मुख्‍य रूप से जीवित लोग अंगदान कर रहे हैं और करीब केवल 23 प्रतिशत प्रत्‍यारोपण मृत व्‍यक्तियों से प्राप्‍त अंगों द्वारा किया जाते हैं. उन्‍होंने कहा कि जीवित अंगदान करने वालों के बजाय मृत अथवा घायल व्‍यक्तियों के अंगदान को बढ़ावा देने की जरूरत है, ताकि अंगों के व्‍यावसायिक व्‍यापार के खतरे और जीवित दान दाता के स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी खतरे से बचा जा सके. यह भी पढ़ें : भारतीय मानक ब्यूरो की संचालन परिषद की पहली बैठक आयोजित
स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍य मंत्री ने कहा कि अब समय आ गया है जब हमें समझदारी के साथ बड़े पैमाने पर जागरूकता फैलानी चाहिए कि एक जीवित व्‍यक्ति केवल एक व्‍यक्ति का जीवन बचा सकता है, जबकि एक घायल अथवा मृत दानदाता अपने प्रमुख अंगों को दान करके नौ लोगों का जीवन बचा सकता है. अंगदान को बढ़ावा देने के अलावा यह महत्‍वपूर्ण है, कि अंग प्रत्‍यारोपण के लिए बुनियादी ढांचे और सरकारी अस्‍पतालों की क्षमता में सुधार किया जाए ताकि गरीबों और जरूरतमंदों को लाभ मिल सके.
इस पहल के लिए सफदरजंग अस्‍पताल को बधाई देते हुए श्रीमती पटेल ने कहा कि इससे प्रेरणा लेकर अधिक से अधिक सरकारी अस्‍पतालों को आगे आना चाहिए और भारत के गरीब और जरूरतमंद मरीजों के लाभ के लिए अंग प्रत्‍यारोपण का काम करना चाहिए.
राष्‍ट्रीय स्‍तर का टिश्यू बैंक टिश्यू प्रत्‍यारोपण की मांग को पूरा करेगा. इसमें इसकी खरीद, भंडारण और बायोमैटिरियल का वितरण पूरा करना शामिल है. केन्‍द्र एक दान दाता से दूसरे व्‍यक्ति के शरीर में टिशू प्रत्‍यारोपित करने पर विशेश ध्‍यान देगा, जिसमें हड्डी और हड्डी उत्‍पाद यानि डीप फ्रोजन बोन एलोग्राफ्ट, फ्रीज ड्राइड बोन एलोग्राफ्ट, डोवल एलोग्राफ्ट, एएए बोन, ड्यूरामेटर, फेशियलअटा, फ्रेश फ्रोजन ह्यूमन एम्‍नीयोटिक मेमब्रेन, हाई टेम्‍प्रेचर ट्रीटेड बोर्ड केडावरिक जॉईन्‍ट्स जैसे घुटना कूल्‍हा और कंधे, केडावरिक क्रेनियम बोन ग्राफ्ट, लूज बोन सेग्‍मेंट, विभिन्‍न प्रकार के बोवाइन एलोग्राफ्ट, त्‍वचा ग्राफ्ट, कॉर्निया, दिल के वॉल्‍व और वैसल शामिल हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here