Home States बिल्डर के घोटाले के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग, हरियाणा के बिल्डर...

बिल्डर के घोटाले के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग, हरियाणा के बिल्डर पीडीएम पर दौ सौ करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप

172
0
SHARE
संवाददाता.
नई दिल्ली. 31 मार्च. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के एक और बिल्डर प्रभु दयाल मेमोरियल पर दौ सौ करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का आरोप लगा है, जिसके विरोध में लोग सड़कों पर उतर आए हैं. धोखाधड़ी के शिकार दो सौ से ज्यादा होम बायर्स 28 मार्च को आईटीओ क्रॉसिंग पर इकट्ठे हुए और बिल्डर के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया. मेहनत की अपनी कमाई वापस पाने की कोशिश में इन लोगों को अपने दफ्तर से छुट्टी लेकर इस आंदोलन में शामिल होना पड़ा. यह संघर्ष बहादुरगढ़, हरियाणा के प्रभु शांति रीयल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड के निदेशकों के खिलाफ था. इन होम बायर्स ने अपनी गाढ़ी कमाई पीडीएम हाई टेक होम्स में घर खरीदने के लिए लगा दी. यह प्रोजेक्ट बहादुरगढ़ के सेक्टर 3 ए में बनना था. इस परियोजना का प्रस्ताव पीडीएम समूह ने 2008 में किया था. गौरतलब है, कि पीडीएम एक जाना-माना समूह है, जो हरियाणा के विभिन्न शहरों में स्थानीय शिक्षा के लिए पीडीएम यूनिवर्सिटी और संस्थाएं चलाता है. बिल्डर ने इस परियोजना को बीच में ही छोड़ दिया और 10 साल बीतने के बावजूद बायर्स को फर्जी आश्वासन देता रहा.  यह भी पढ़ें : रोहिणी जोन में अवैध निर्माणों की भरमार, सिंगल मकानों का जोड़ा बना अवैध कमाई कर रहे हैं जेईई और बिल्डर्स अब प्रदर्शनकारी परियोजना को पूरा कर फ्लैट का आवंटन करने या ब्याज के साथ पैसे वापस करने की मांग कर रहे हैं. गौरतलब है, कि बिल्डर ने करीब 400 खरीददारों और बैंकों से 200 करोड़ रुपए की राशि इकट्ठी की थी, लेकिन इस राशि का दुरुपयोग करते हुए निजी लाभ के लिए दूसरे काम में लगा दिया, जिसके चलते परियोजना रुक गई. इसके बाद बिल्डर ने जमीन को बंधक रखकर कर्ज ले लिए जो चंडीगढ़ में जमीन खरीदने और शिक्षा संस्थान बनाने के लिए इस्तेमाल किए गए. कर्ज के पुनर्भुगतान में जान-बूझकर देरी करने के कारण जून 2018 में कंपनी को एनसीएलटी दिल्ली की अदालत ने दिवालिया घोषित कर दिया. तब से घर खरीदने वाले अंधेरे में हैं. खरीददारों में ज्यादातर पेंशन पाने वाले और मध्यम वर्ग के लोग हैं. इन लोगों ने एक किफायती घर खरीदने का सपना देखा था. इस ठगी के बाद अब यह उम्मीद पूरी तरह जाती रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here