Home Interviews निजी क्षेत्र को पर्याप्त बुनियादी सुविधाएं और लॉजिस्टिक सिस्टम में सुधार की...

निजी क्षेत्र को पर्याप्त बुनियादी सुविधाएं और लॉजिस्टिक सिस्टम में सुधार की दरकार

61
0
SHARE
Anupam-Bansal-MD-Liberty, File Photo
दिल्ली के श्रीराम कॉलेज आॅफ कॉमर्स से अर्थशास्त्र के स्नातक तथा इटली से फुटवियर डिजाइनिंग की शिक्षा पाने वाले अनुपम बंसल लिबर्टी के विपणन प्रभाग में विभिन्न पदों की जिम्मेदारी निभाने के बाद अब एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर रिटेल के रूप में संगठन का नेतृत्व कर रहे हैं. लिबर्टी ब्रैंड के साथ उनका जुड़ाव उनके अपने शब्दों में ‘व्यक्तिगत खोज और पेशेवर विकास की यात्रा’ है. लिबर्टी के लिए खुदरा टीम बनाने के लिए पहल करने का श्रेय अनुपम को जाता है. अनुपम ने लिबर्टी, जिसे हमेशा पैसा वसूल पारिवारिक फुटवियर ब्रैंड के तौर पर माना जाता था, इसकी पहचान बदल दी. आज इसे लाइफस्टाइल ब्रैंड के तौर पर भी जाना जाता है. अनुपम का एक और महत्वपूर्ण कदम दक्षिण भारत में लिबर्टी की उपस्थिति को बहुत बड़े तरीके से विस्तारित करना है. इस प्रकार भारत का यह भरोसेमंद फुटवियर ब्रैंड वास्तव में राष्ट्रीय ब्रैंड बन रहा है. रिटेल कारोबार पर अनुपम कहते हैं, कि ‘यह उस बारे में नहीं है जो आप बेचना चाहते हैं, बल्कि यह वह है जो उपभोक्ता खरीदना चाहता है. मौजूदा दौर में फुटवियर इंडस्ट्री से जुड़े मुद्दों पर हमने उनसे बात की. प्रस्तुत हैं बातचीत के मुख्य अंश-

प्रश्न- फैशन आज कंफर्ट से भी ज्यादा जरूरी हो गया है, ऐसे में लिबर्टी कंफर्ट और फैशन के बीच कैसे तालमेल बिठा रहा है?
उत्तर- हम लिबर्टी की टैगलाइन ‘फैशन इज कंफर्ट’ का अनुसरण करते हैं. लिबर्टी की फुटवियर मेकिंग प्रोसेस पूरी तरह से फैशन और कंफर्ट को ध्यान में रखते हुए की जाती है. आधुनिक तकनीक से लैस, लिबर्टी के मॉर्डन डिजाइन और कलर कांबिनेशन किसी का भी मन मोहने के लिए काफी हैं.
प्रश्न- युवाओं के लिए शूज भी आज फैशन और स्टेट्स सिंबल बन चुके हैं, ऐसे में यूथ के लिए लिबर्टी के पास खास क्या है?
उत्तर- हमने हाल ही में युवाओं के लिए ‘चल बढ़ चल’ अभियान के तहत एक नया ब्रैंड लीप 7x लॉन्च किया है. ‘चल बढ़ चल’ अभियान पारंपरिक सोच से हटकर आगे बढ़ने वाले लोगों के लिए है. हमारा ब्रैंड लीप 7x एक्सरसाइज सेशन के लिए आइडियल फुटवियर है, जो बेहद आरामदेह और मजबूती में बेजोड़ है. इसके फीते की फिटिंग, मेमोरी फोम इनसोल, उच्च गुणवत्ता वाले कॉलर और पैडिंग तथा उन्नत फ्लो प्लस तकनीक इसे बेहद खास बना देती है.
प्रश्न- फुटवियर इंडस्ट्री की ट्रेडिशनल तौर-तरीकों से तकनीक की ओर बढ़ने की यात्रा को किस तरह से देखते हैं? क्या आधुनिकीकरण की यह प्रक्रिया संतोषजनक है?
उत्तर- समय के साथ हर क्षेत्र में बदलाव की आवश्यकता होती है. यह देखना सुखद है, कि ब्रैंड्स अपने उत्पादों के साथ नए-नए प्रयोग कर रहे हैं. हमारे उत्पादों में एक जोड़ी जूते की तैयार करने में एक बड़ी तकनीकी टीम शामिल होती है. लिबर्टी के तहत आने वाला हेल्सर्स ऐसा ही ब्रैंड है, जिसमें तकनीक का बेहतरीन इस्तेमाल है. यह इस तरह से बनाया गया है, कि इसके थ्री प्वाइंट से पैर को मालिश मिलती है, इसके शॉक आॅब्जर्वर्स बेहद कमाल के हैं और अधिकतम आराम प्रदान करते हैं. यही नहीं इसकी परिसंचरण प्रणाली हवा के उपर्युक्त आवागमन से आपके पैरों की ताजगी सुनिश्चित करती है.
प्रश्न- तकनीकी तौर पर सुधारों के लिए सरकारों द्वारा दी जाने वाली सब्सिड़ी, ग्रांट्स किस हद तक प्रभावी हुई हैं?
उत्तर- यह उम्मीद की जाती है, कि सरकार उद्योगों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर काम करेगी और चीजें सरलता के साथ आगे बढ़ जायेंगी. सरकार ने ‘मेक इन इंडिया’ अभियान शुरू कर दिया है, जो भारत में विनिर्माण को बढ़ावा देने में फायदेमंद साबित हुआ है. यह भी पढ़ें : रिटर्न भरने की आखिरी तारीख गई, जीएसटी पोर्टल पर अब तक अपलोड नहीं हुआ वार्षिक रिर्टन का फॉर्मेट लेकिन जब विनिर्माण क्षेत्र को बढ़ावा देने की बात आती है, तो कई विसंगतियों और बाधाओंं से पार पाना पड़ता है. सरकार को निजी क्षेत्र को पर्याप्त बुनियादी सुविधाओं और लॉजिस्टिक सिस्टम में सुधार की सुविधा देनी चाहिए.
प्रश्न- नोटबंदी और जीएसटी के बाद चीजें कितनी बदली हैं और इन बदलावों को किस नजर से देखते हैं?
उत्तर- जीएसटी का क्रियान्वयन उद्योग जगत के लिए एक अच्छी खबर थी. हमारा 20 प्रतिशत राजस्व, पाँच सौ रूपये से एक हजार रूपये के बीच के जूते से आता है. जीएसटी और नोटबंदी के निर्णय के बाद देश का आॅर्गेनाइज सेक्टर आज अंतर्राष्ट्रीय ब्रैंड्स के साथ प्रतिस्पर्धा की ओर बढ़ रहा है.
प्रश्न- एक रिपोर्ट के मुताबिक कैजुअल फुटवियर का लगभग दो तिहाई फुटवियर मार्किट पर कब्जा है. फॉर्मल फुटवियर्स के पीछे छूट जाने का क्या कारण मानते हैं?
उत्तर- मेरा मानना है, कि हर फुटवियर का अपना स्थान होता है. निश्चित तौर पर कैजुअल फुटवियर फॉर्मल के मुकाबले ज्यादा बेचे जाते हैं, क्योंकि इनका उपयोग हमारे दैनिक जीवन में ज्यादा किया जाता है. हालांकि हम उपभोक्ता के रुझानों में बदलाव देख रहे हैं, जहां फॉर्मल फुटवियर की जगह कैजुअल और एथलीटिक ब्रैंड्स ले रहे हैं.
प्रश्न- तुलनात्मक तौर पर लिबर्टी अपने कंपीटिटर ब्रैंड्स से क्यूँ बेहतर है?
उत्तर- बाजार में आने वाला प्रत्येक बै्रंड एक निश्चित विशिष्ट उपयोगिता प्रदान करता है. शूज की दुनिया में हमारे पास कंफर्ट का एक निर्विवाद बैं्रड है. हमने कुछ नए ब्रैंड पेश किए हैं, और फैशन को इन बैं्रड्स के साथ बढ़ते हुए देखा है.
प्रश्न- लिबर्टी की भविष्य की योजनाएं क्या हैं?
उत्तर- मौजूदा वित्तीय वर्ष में हम लगभग 100 स्टोर खोलने की योजना बना रहे हैं. प्रत्येक वर्ष हम व्यवस्थित रूप से वार्षिक बिक्री लक्ष्य निर्धारित कर रहे हैं. इन्हें उत्पाद विकास की आवश्यकताओं और खुदरा विस्तार की जरूरतों के संदर्भ में विभाजित किया गया है. अगले कुछ वर्षों में हम अपने ब्रैंड इंटरफेसिंग को टायर 2 शहरों में फैले ग्राहकों के एक बड़े समूह के साथ देखते हैं. और हम लगभग और 100 नए स्टोर जोड़ देंगे.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here