Home National News चीनी सामान के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान, राष्ट्रपति को सौंपा जायेगा हस्ताक्षर पत्र

चीनी सामान के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान, राष्ट्रपति को सौंपा जायेगा हस्ताक्षर पत्र

295
0
SHARE
संवाददाता.
नई दिल्ली. 04 जून. भारत और तिब्बत के अटूट रिश्ते पर हमेशा से चीन की पैनी नजर रही है. लेकिन दोनों देशों के रिश्ते को मजबूत करने के लिए भारत तिब्बत सहयोग मंच ने राष्ट्रीय पटल पर तिब्बत को आजादी दिलाने की मुहिम छेड़ी हुई है. राजधानी में बीते दिनों भारतीय तिब्बत सहयोग मंच ने अपनी 20वीं वर्षगांठ ‘तिब्बत कैलाश मुक्ति संकल्प वर्ष’ के रूप में मनाने का फैसला लिया. इसे संकल्प वर्ष का नाम देते हुए भारत तिब्बत सहयोग मंच ने एक संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर अभियान शुरू किया है. देश भर से नागरिकों के हस्ताक्षर लेकर मंच इस हस्ताक्षर पत्र को महामहिम राष्ट्रपति को सौंपेगा. यह भी पढ़ें : भाजपा का ‘संपर्क फॉर समर्थन’अभियान, पदाधिकारियों और कार्यकर्त्ताओं को अब तक नहीं मिली प्रचार सामग्री  मुहिम में लोगों को एकजुट करने के लिए संगठन इसकी जानकारी सभी जिलों और विधानसभा स्तर तक पहुंचाने में लगा हुआ है. राजधानी में आयोजित इस संपर्क अभियान के तहत मंच के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष रविंद्र गुप्ता ने लोगों को बताया कि कैसे चीन, भारत में लगभग 40 लाख करोड़ रुपए का माल निर्यात करके उस पैसे से पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद में सहायता करता है. गुप्ता ने कहा कि आज हमारे पैसे से हमारे ही सैनिकों की जान जा रही है. इसलिए हमें चीन की आर्थिक कमर को चीनी सामान का बहिष्कार करके तोड़ना है. जब चीन आर्थिक रूप से कमजोर होगा तभी तिब्बत को आजादी और भारत को सुरक्षा मिलेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here