Home State News ‘सज्जन सिंह रंगरूट’ फिल्म की टीम पहुँची गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब

‘सज्जन सिंह रंगरूट’ फिल्म की टीम पहुँची गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब

188
0
SHARE
संवाददाता.
नई दिल्ली. 21 मार्च. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान सिख फौजियों द्वारा फ्रांस को जर्मनी के हाथों में जाने से बचाने की कहानी पर बनी पंजाबी फिल्म ‘सज्जन सिंह रंगरूट’ सिख इतिहास के प्रचार की दिशा में बड़ी भूमिका निभायेगी. दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजीत सिंह जी.के. ने प्रसिद्ध पंजाबी गायक व कलाकार दलजीत सिंह दोसांझ के साथ पत्रकारों को संबोधित करते हुए यह बात कही. इससे पहले फिल्म की पूरी टीम ने गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब में नतमस्तक होने के बाद 1984 सिख कत्लेआम का दर्द बयान करते ‘सच की दीवार’ स्मारक को देखा.
जी.के. ने कहा कि देश सिर्फ अंग्रेजों की गुलामी को तो अपने इतिहास का हिस्सा मानता है, लेकिन नौ सौ वर्ष से अधिक समय की मुगलों की गुलामी के बारे मौन हो जाता है. जबकि सिख गुरुओं एवं सेनानायकों ने गुलामी की जंजीरों को तोड़कर पूरी मानवता को आजादी की खुशबू दी थी.
जर्मनी द्वारा फ्रांस पर कब्जा करने के मकसद से किये गये हमले के जवाब में 100 वर्ष पहले सिख फौजियों द्वारा दिखाये गये पराक्रम का चित्रण करने वाली ‘सज्जन सिंह रंगरूट’ फिल्म को बनाने वाली पूरी टीम का धन्यवाद करते हुए जी.के. ने कहा कि बड़े फिल्मकार ऐसे मसलों पर फिल्म बनाने से किनारा करते हैं.  यह भी पढ़ें : एससी एक्ट में बदलाव के निर्णय पर उदितराज ने जताया अफसोस, सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को जातिगत पूर्वाग्रह से प्रेरित बताया इसलिए इस फिल्म को बनाने वालों की भावना को वो सलाम करते हैं. उन्होंने कहा कि सिख फौजियों ने 303 राईफल एवं सूती कपड़ों के सहारे अपनी बहादुरी से जर्मनी को फ्रांस पर कब्जा नहीं करने दिया था. पगड़ी वाले सिखों ने फ्रांस की आजादी को बहाल रखने के लिए अपना खून बहाया था पर अफसोस फ्रांस में आज हमें पगड़ी पर पाबंदी का सामना करना पड़ रहा है.
जी.के. ने एक कदम और आगे बढ़कर कहा कि यदि यूरोप का वजूद आज कायम है तो सिखों की कुर्बानियां के चलते है.
इस अवसर पर दिलजीत ने दिल्ली कमेटी का धन्यवाद करते हुए कहा कि आज उन्हें यहां आकर बहुत अच्छा लगा और सिख इतिहास के बारे में उनकी जानकारी में भी बढ़ोत्तरी हुई. दिल्ली कमेटी द्वारा इस अवसर पर फिल्म की टीम को शॉल, नानकशाही सिक्का और इतिहास की किताबें भेंटकर सम्मानित किया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here