Home Arts & Culture भगवान बाल्मीकि के ऐतिहासिक धर्म स्थलों का दर्शन कराएगा टीवी सीरियल ‘बाल्मीकि...

भगवान बाल्मीकि के ऐतिहासिक धर्म स्थलों का दर्शन कराएगा टीवी सीरियल ‘बाल्मीकि धर्म यात्रा’

94
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
संवाददाता.
नई दिल्ली. 24 मार्च. श्रीमद् रामायण व योग वशिष्ठ के रचयिता भगवान बाल्मीकि द्वारा विश्व में स्थापित सामाजिक, सौहार्द, राजनीति, धार्मिक, श्रद्धा और विश्वास, पारिवारिक स्नेह, मान- सम्मान, आज्ञा- पालन, अहिंसा के प्रथम पुजारी, करुणा के स्त्रोत, इच्छा दान के आदर्श सिद्धांतों को जनमानस तक पहुंचाने के लिए टीवी धारावाहिक ‘बाल्मीकि धर्म यात्रा’ का निर्माण किया जा रहा है. इसका प्रसारण धार्मिक चैनल दिशा पर किया जाएगा, जो भारत सहित 65 देशों में देखा जाएगा.
Naresh Choudhary : File Photo
52 हफ्ते, 52 मंदिर, 52 प्रवचन, 52 भजन और 52 लाख दर्शकों तक सीधी पहुंच रखने वाले इस धार्मिक सीरियल ‘बाल्मीकि धर्म यात्रा’ का निर्माण अवेयरनेस एंड डिवाइन एसोसिएशन के बैनर तले लेखक-निर्देशक नरेश चौधरी कर रहे हैं. चौधरी पिछले 30 वर्षों से कला क्षेत्र से जुड़े हुए हैं. उन्होंने लगभग 100 नाटकों सहित 12 टेलीफिल्म, 9 सीरियल, 2 फीचर फिल्मों में काम किया है. नरेश चौधरी ने बताया कि यह सीरियल समस्त बाल्मीकि समाज के सहयोग से बनाया जा रहा है, जिसमें सभी कलाकार, एंकर, कैमरा मैन, मेकअपमैन, एडिटर, साउंड रिकॉर्डिंग,सिनेमा फोटोग्राफी व एडवरटाइजमेंट बाल्मीकि समाज के ही रहेंगे. यह भी पढ़ें : डॉक्टर्स एसोसिएशन के बीच क्रिकेट मैच की विजेता बनीं ईस्ट दिल्ली डॉक्टर्स एसोसिएशन टीम, कप्तान अनिरूद्ध बने मैन आफ द मैच चौधरी ने बताया कि महाकाव्य श्रीमद् रामायण में करोड़ों श्लोकों की रचना की गई थी, परंतु वर्तमान में 24000 श्लोकों, 100 आख्यान, 560 सर्ग व उत्तरकांड सहित सात कांड हैं. महाकाव्य रामायण में क्षमा सौम्यभाव,सत्य शीलता व महा पराक्रम शौर्य का वर्णन किया गया है. परमपिता परमेश्वर भगवान बाल्मीकि की कथानुसार जीवन में शिक्षा व ज्ञान का महत्वपूर्ण स्थान है. शिक्षित व्यक्ति ही जीवन चक्र पर विजय प्राप्त कर सकता है.
रामायणानुसार भगवान बाल्मीकि ने यह समस्त ज्ञान भारत वर्ष के 32 से अधिक आश्रमों में लिखे, जो कि वर्तमान में भारत के 9 राज्यों सहित नेपाल में भी मौजूद हैं. इसके साथ ही भगवान बाल्मीकि द्वारा स्थापित आश्रमों का अपना एक विशेष महत्व है. ये आश्रम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, कर्नाटक व उड़ीसा में स्थापित हैं. इन सभी आश्रमों के साथ ही कश्मीर से कन्याकुमारी तक बने भव्य विशाल बाल्मीकि मंदिरों को भी इस सीरियल में दिखाया जाएगा. सीरियल की प्रत्येक कड़ी में समाज के साधु संतों, कथावाचकों के प्रवचन तथा साथ ही एक बाल्मीकि भजन होगा.
चौधरी ने कहा कि रामायण विश्व की प्रामाणिक साहित्यिक रचना है. भगवान बाल्मीकि ने करोड़ों हिंदुओं की आस्था के प्रतीक श्रीराम के जन्म से हजारों वर्ष पूर्व इसकी रचना की, जो श्री रामजन्म के साथ अक्षरक्ष: घटित हुई है. यह भगवान बाल्मीकि की युग दृष्टा शक्ति थी. सीरियल अंतरराष्ट्रीय धार्मिक चैनल दिशा टीवी पर प्रसारित किया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here