Home Uncategorized सीलिंग से त्रस्त व्यापारी की कैसी दीवाली? उनकी सोचें, जिनका सब-कुछ खत्म...

सीलिंग से त्रस्त व्यापारी की कैसी दीवाली? उनकी सोचें, जिनका सब-कुछ खत्म हो गया

49
0
SHARE
सांकेतिक चित्र
गिरीश की कलम से –
Girish Sharma, Property Conslutant
सबसे पहले तो दीवाली के इस पावन पर्व पर आप सबको मेरी शुभकामनाएं. यह पर्व सभी के घर एवं जीवन में खुशियां लाए. एक सक्रिय लेखक होने के कारण मैं समय-समय पर अपने प्रॉपर्टी क्षेत्र से संबंधित विभिन्न लेखों में इनमें होने वाले क्रियाकलापों, धोखे एवं फ्रॉड जैसी परेशानियों से पहले ही अवेयर करवाने के लिए लिखता रहता हूँ. आज मन किया कि क्यूं ना अपने दिल की बात आपसे साझा करूं. मित्रों, मैंने आपको दीवाली की शुभकामनाएं दीं और भगवान से यही हर रोज प्रार्थना करता हूँ कि ईश्वर सबके घर सुख और समृद्धि का वास हो, परंतु आज लिखते-लिखते कहीं मन के एक कोने में टीस है, उन व्यापारी भाइयों के लिए जिनकी दुकानें, कारोबार, फैक्ट्रियां एवं अनेक उद्यम सरकार द्वारा चलाई गई अतिक्रमण एवं सीलिंग ड्राइव का शिकार हुए हैं. जिन परिवारों के पास अपने भरण-पोषण एवं दिन-प्रतिदिन के खर्चों को पूरा करने के लिए पर्याप्त राशि नहीं है, उनकी कैसी दीवाली? त्यौहार तो तभी हर्ष और उल्लास के साथ मना सकते हैं, जब हमारे पास उसे मनाने के लिए पर्याप्त राशि एवं साधन हों. एक व्यापारी जिसका चला-चलाया काम बंद हो जाए, उसके लिए त्यौहार का आना या ना आना एक बराबर है. मैं अपने व्यापारी भाइयों की दशा एवं मनोस्थिति को पूरी तरह समझ सकता हूँ और खुद भी एक व्यापारी होने के नाते बाजार की वर्तमान स्थिति से पूर्णतया वाकिफ हूँ. बाजारों का सूनापन इस बात का संकेत देता है, कि एक आम इंसान इस वक्त कितनी जद्दोजहद के बाद अपना जीवन-यापन कर रहा है. यह भी पढ़ें : कोलेबोरेशन के वक्त कई एहतियात हैं जरूरी अनेकों मानसिक तनाव उसे परेशान किए हुए हैं. दिल्ली का नागरिक होने के नाते सभी राजनीतिक पार्टियों से हाथ जोड़कर निवेदन है, कि दिल्ली के व्यापार को राजनीति की नजर से ना देखकर कृपया व्यापारियों की भावनाओं और उनके दर्द को समझें और कुछ ऐसा कदम उठाएं जिससे व्यापारियों का नववर्ष कम से कम शुभ समाचार लेकर आए. और माननीय मॉनिटरिंग कमेटी से मैं यह कहना चाहूंगा कि दिल्ली बसाई नहीं गई समय की जरूरतों के अनुसार बसती चली गई और बसी-बसाई चीजों को उजाड़ा नहीं करते. फिर भी मैं अपने व्यापारी भाइयों एवं साथियों से यही कहूंगा कि परिस्थितियां कभी भी एक समान नहीं रहतीं. आने वाले समय में कुछ बेहतर अवश्य होगा, इसी कामना के साथ.
प्रॉपर्टी से संबंधित और अधिक जानकारी के लिए आप गिरीश शर्मा के फेसबुक पेज Shanti Properties (Regd.) पर जा सकते हैं और उनके यूट्यूब चैनल Property Tips By Girish Sharma को लाइक एवं सब्सक्राइब भी कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here